मूंगफली खाने से स्वस्थ रहता है हृदय

 

मूंगफली को आप प्रोटीन और फाइबर का गोदाम भी कह सकते हैं! जी हां, छोटे-छोटे से प्राकृतिक सुरक्षा कवचों में बंद सुंदर-स्वादिष्ट और सुगंधित मूंगफली के दानों को गरीबों का काजू भी कहा जाता है। क्या आपने कभी इस बात पर गौर किया है कि मूंगफली आती तो हर मौसम में हैं। लेकिन सर्दियों में ही इनका सबसे अधिक सेवन क्यों किया जाता है?

मूंगफली में होते हैं ये गुण
-मूंगफली में ऐंटिऑक्सीडेंट्स
– विटमिन्स
-मैग्नीशियम
-मैग्नीज
-कैल्शियम
-बीटा कैरोटीन जैसे गुण पाए जाते हैं। ये सभी तत्व शरीर को पोषण देते हैं और ठंड के प्रभाव से बचाते हैं।

-मूंगफली में मैग्नीज और कैल्शियम दोनों पाए जाते हैं। इसलिए मूंगफली खाने से इन तत्वों के कारण शरीर को दो तरह का लाभ मिलता है। जैसे मैग्नीज हड्डियों के अंदर कैल्शियम के अवशोषण की प्रक्रिया को तेज करने में सहायता करता है।

-इससे हड्डियां मजबूत बनती हैं। साथ ही मैग्नीश रक्त में ब्लड शुगर की मात्रा को नियंत्रित करने का काम करता है। इससे शरीर में शुगर का स्तर सामान्य बनाए रखने में सहायता मिलती है।

-सर्दियों के मौसम में मूंगफली खाने से शरीर पर ठंड का प्रभाव नहीं होता है। इससे आप सर्दी, जुकाम और फ्लू फैलानेवाले वायरसों की चपेट में नहीं आते हैं। क्योंकि मूंगफली आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी वृद्धि करती है।

-सर्दियों में खांसी होना आम बात है। यदि आप हर दिन एक से दो मुट्ठी मूंगफली खाएंगे तो खांसी की समस्या से बचे रह सकते हैं। लेकिन यदि एक बार खांसी हो जाए तो खांसी के दौरान मूंगफली ना खाएं नहीं तो खांसी बढ़ सकती है। जब खांसी ठीक हो जाए, उसके बाद मूंगफली का सेवन करें। खट्टी डकार से छुटकारा पाने के घरेलू नुस्खे, दूर होगी गले में जलन की समस्या?

-आपने एक बात जरूर नोटिस की होगी कि हार्ट अटैक, हार्ट स्ट्रोक या ब्रेन हेमरेज केस अधिक सामने आते हैं। ऐसा व्यक्ति की लाइफस्टाइल, उसके शरीर पर ठंड के असर और कोलेस्ट्रोल के बिगड़े स्तर के कारण होता है। ये इन समस्याओं की मुख्य वजह हैं।

-लेकिन मूंगफली के नियमित और सीमित सेवन से इन बीमारियों को नियंत्रित किया जा सकता है। क्योंकि मूंगफली में शरीर को गर्म रखने की क्षमता तो होती ही है, साथ ही मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड भी होता है। जो शरीर के अंदर बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करके गुड कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने का काम करता है।

-मूंगफली का सेवन हमारे मेटाबॉलिज़म और मांसपेशियों को संतुलित रखने का काम करता है। मूंगफली में पाया जानेवाला बीटा कैरोटीन त्वचा की एक-एक कोशिका तक रक्त के प्रवाह को सुनिश्चित करता है। इससे त्वचा में नमी बनी रहती है और त्वचा निरोग रहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *