इंदौर संभाग में फुटपाथ पर रहने वाले लोगों और भिक्षुकों के पुनर्वास के लिये अभियान दीनबंधु शुरू

 भोपाल

इंदौर संभाग में फुटपाथ पर रहने वाले लोगों और भिक्षावृत्ति में संलग्न व्यक्तियों के पुनर्वास, सहायता, स्वास्थ्य रक्षा आदि के लिए संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा के मार्गदर्शन में अभियान दीनबंधु प्रारंभ किया गया है। इस विशेष अभियान के अंतर्गत संभाग के सभी जिलों में एक साथ पुनर्वास तथा राहत की कार्रवाई प्रारंभ कर दी गई है। संभाग के जिलों में ठंड से बचाव के लिये जरूरतमंदों को कहीं कंबल बांटे जा रहे हैं तो कहीं संवेदनशील पहल करते हुए उनके खाने-पीने तथा आश्रय की व्यवस्था की जा रही है। इस अभियान में जनप्रतिनिधियों, विभिन्न सामाजिक संगठनों, एनजीओ के प्रतिनिधियों आदि का सहयोग भी लिया जायेगा।

इंदौर

संभागायुक्त व निगम प्रशासक डॉ. शर्मा ने बताया कि असहाय व्यक्तियों व भिक्षुकों के बचाव के लिये निगम के रैन बसेरा में गर्म कपड़े, कम्बल, भोजन आदि की व्यवस्था की जा रही है। डॉ. शर्मा ने कहा कि शहर में सडक किनारे रहने, सोने वाले बेसहारा व्यक्ति तथा भिक्षावृत्ति करने वाले व्यक्तियों का अरविंदो हॉस्पिटल के सहयोग से मेडिकल चेकअप कराने का अभियान चलाया जा रहा है। साथ ही मेडिकल चेकअप उपरांत आवश्यकता अनुसार चिकित्सा सहायता उपलब्ध कराई जा रही है।

भारत सरकार के सामाजिक न्याय विभाग द्वारा भिक्षुकों की संख्या के आधार पर भिक्षुक पुनर्वास के लिए चयनित 10 शहरों में इंदौर को भी सम्मिलित किया गया है। इस अभियान का मुख्य उददेश्य भिक्षावृत्ति करने वाले समुदाय को चिन्हांकित कर उनके पुनर्वास की समुचित व्यवस्था करना है। इस योजना के आरंभिक चरण में शहर में भिक्षावृत्ति एवं भिक्षुकों के रहने के समस्त स्थलों का वास्तविक चिन्हांकन, सर्वेक्षण डाटा का कलेक्शन एवं क्लासिफिकेशन, सर्वेक्षण से प्राप्त डाटा अनुसार भिक्षुकों को उनकी कौशल क्षमता-अक्षमता के आधार पर पुर्नवास कराया जायेगा।

बड़वानी

संभाग के बड़वानी जिले में कलेक्टर श्री शिवराज वर्मा के मार्गदर्शन में कल एक अभिनव पहल करते हुये विक्षिप्त व्यक्ति को नहलाकर मानवीय स्वरूप दिया गया। बताया गया कि बड़वानी जिले में घूम रहे लावारिस, निःसहाय लोगों को स्नान करवाकर, हजामत बनवा कर, उन्हें खाना -पानी देकर आश्रय में रुकवाने की व्यवस्था प्रारंभ की गई है। बड़वानी में जरूरतमंदों को ओढ़ने हेतु गर्म कंबल भी दिए गए हैं।

बड़वानी के ठीकरी नगर में एक विक्षिप्त आदमी लावारिस हालत में घूम रहा था। इस व्यक्ति को नहला धुलाकर जहां उसकी कटिंग करवाई गई वहीं उसे खाना-पानी करवाकर रात्रि विश्राम हेतु आश्रय में रुकवाया गया है। इसके इलाज की व्यवस्था भी की जा रही है।

खरगोन

संभाग के खरगोन जिले में भी पुनर्वास और राहत की कार्रवाई प्रारंभ कर दी गई है। खरगोन में कल शाम को शहर के विभिन्न क्षेत्रों में 40 ब्लेंकेट और 100 भोजन पैकेट वितरित किये गये गए। यह कार्य नवगृह मंदिर , बस स्टेंड, माता मंदिर, गणेश मंदिर सहित अन्य स्थान किये गये।

खण्डवा

इंदौर संभाग के खण्डवा नगर निगम ने 42 ऐसे लोग चिन्हित किये हैं जो फुटपाथ पर सोते है उन्हें पार्वती बाई धर्मशाला और रेन बसेरे में शिफ्ट किया जा रहा है। इस संबंध में कलेक्टर ने अन्य नगरीय निकायों को भी इस तरह की कार्रवाई करने के लिये निर्देशित किया है।

आलीराजपुर

आलीराजपुर कलेक्टर सुश्री सुरभि गुप्ता ने बताया है जिले में आलीराजपुर, जोबट तथा भाबरा तीन नगरीय निकाय है। तीनों में संभागायुक्त डॉ. शर्मा के निर्देशानुसार दल बनाकर कार्य आरंभ कर दिया गया है।

धार

कलेक्टर धार श्री आलोक सिंह ने बताया है कि धार में 12 भिक्षुकों को आज रेन बसेरा में लाया गया है। उनका स्वास्थ्य परीक्षण किया गया है। सभी के रहने एवं भोजन का स्थायी इंतजाम किये गये है।

झाबुआ

इंदौर संभाग के झाबुआ जिले में भी इस अभियान के लिये तैयारियां की जा रही है। कलेक्टर श्री रोहित सिंह ने बताया कि झाबुआ जिले में फुटपाथ पर रहने वाले तथा भिक्षुकों को चिन्हित कर उनको रेनबसेरे  में ठहराने,  स्वास्थ्य परीक्षण, भोजन आदि के प्रबंध के लिये व्यवस्था की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *